पिथौरागढ़ पुलिस ने ऑपरेशन मुक्ति के तहत 11 बच्चो का स्कूल में करवाया दाखिला,एसपी लोकेश्वर सिंह ने आम जनमानस से भी की यह अपील

दी टॉप टेन न्यूज़ देहरादून

पिथौरागढ़-उत्तराखंड पुलिस राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखने के साथ साथ समय समय पर आम जनमानस के लिए अभियान चलाती है. इसी क्रम में सीमांत पिथौरागढ़ ज़िले की पुलिस ऑपरेशन मुक्ति (भिक्षा नहीं शिक्षा दें) के तहत शिक्षा से वंचित बच्चो के लिए अभियान चला रही है इस अभियान के तहत पिथौरागढ़ पुलिस ने 11 बच्चों को स्कूल में दाखिला दिलाया है।दाखिले के साथ ही पुलिस विभाग ने इन बच्चों को स्कूल की किताबें, कॉपी, ड्रेस भी उपलब्ध करवाई है।

इस विषय मे जानकारी देते हुए एसपी पिथौरागढ़ लोकेश्वर सिंह ने बताया कि ऑपरेशन मुक्ति के तहत पिथौरागढ़ ज़िले में अभियान चलाया जा रहा है. इसके तहत सभी थाना, पुलिस चौकी क्षेत्र के अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि कोई भी बच्चा अगर शिक्षा से वंचित है, तो उसको शिक्षा दिलाई जाए. उन्होंने कहा कि कई बार देखा जा रहा है कि बच्चों के परिवार आर्थिक रूप से कमजोर हैं या बच्चे गलत संगत या किसी अन्य कारण के चलते स्कूल छोड़ चुके हैं. ऐसे बच्चों का चिन्हीकरण कर पुनः स्कूल में दाखिला कराया जा रहा है. जिससे कि बच्चे देश का भविष्य बन सकें।

 एसपी लोकेश्वर सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि 2 दिन तक चलाए गए अभियान के तहत 11 बच्चों को चिन्हित किया गया है. कोरोना काल में इन बच्चों का स्कूल छूट गया था. अब पुनः इन बच्चों के अभिभावकों से बात कर इन्हें स्कूल भेजने का काम किया किया गया है. 4 बच्चों को प्राथमिक विद्यालय टाउन तथा 2 बच्चों को आंगनबाड़ी जबकि 2 बच्चों को राजकीय प्राथमिक विद्यालय थप्पड़पाटा में दाखिल कराया गया है. 3 बच्चों को अन्य स्कूलों में दाखिल करने की कार्रवाई चल रही है. उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोई भी बच्चा भिक्षावृत्ति अथवा मजदूरी में लिप्त पाया जाता है तो उसके भविष्य को देखते हुए इसकी जानकारी पुलिस को दे दें. जिससे कि इन बच्चों को स्कूल में दाखिला दिला कर उनको अच्छी शिक्षा दिलाई जा सके।

उन्होंने कहा कि सभी थाना, चौकी प्रभारियों को निर्देशित किया गया है कि अपने-अपने क्षेत्र में शिक्षा से वंचित बच्चों को चिन्हित कर उनको कॉपी, किताब, ड्रेस के अलावा स्टेशनरी उपलब्ध कराएं. उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत पूर्व में कई बच्चों का स्कूल में दाखिला कराया जा चुका है।

Verified by MonsterInsights