अल्मोड़ा में सिंगल यूज प्लास्टिक ठोस अवशिष्ट प्रबंधन ” पर एक दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

दी टॉप टेन न्यूज़ देहरादून

अल्मोड़ा-उत्तराखण्ड सरकार द्वारा
समय-समय पर प्रतिबन्धित सिंगल यूज प्लास्टिक तथा कूड़ा निस्तारण के बेहतर प्रबन्धन हेतु जारी दिशा निर्देशों के अनुपालन में विकास भवन सभागार में नगर पालिका द्वारा आयोजित कार्यशाला में नगरपालिका के सभासदों, अल्मोड़ा नगर समीपवर्ती ग्रामों के ग्राम प्रधानों एवं समस्त पर्यावरण पर्यवेक्षकों द्वारा प्रतिभाग किया। इस अवसर पर नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने कहा कि आने वाले समय में कूड़ा निस्तारण हमारे समाज के लिए बहुत बड़ी समस्या बनकर उभर रही है इसलिए हम सब मिलकर इस समस्या के निस्तारण के लिए आगे आयें। उन्होंने कहा कि हमें प्रतिबन्धित प्लास्टिक के उत्पादों का उपयोग नहीं करना चाहिए। उन्होंने सभी उपस्थित सभासदों, ग्राम प्रधानों से अपील की, कि अपने-अपने क्षेत्र में जैविक, अजैविक कूड़े के पृथकीकरण के लिए अधिक से अधिक लोगो को जागरूक किया जाय। उन्होंने कहा कि हम अपने शहर को साफ व सुन्दर तभी बना सकते है जब हमें कूड़ा निस्तारण व उसके प्रबन्धन के बारे में सही जानकारी हो।

इस अवसर पर जिलाधिकारी वन्दना ने सभी उपस्थित सभासदों व ग्राम प्रधानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमारे द्वारा जैविक व अजैविक कूड़े का सही तरीके से निस्तारण अपने स्तर से कर लिया जाय तो डम्पिंग जोन में बहुत कम मात्रा में कूड़ा पहुॅच पायेगा। उन्होंने कहा कि हमें नगर व उसके आसपास के क्षेत्रों में कूड़े के निस्तारण के लिये आगे आना होगा तभी इस कार्यशाला का उद्देश्य सफल हो पायेगा। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि जन कूड़ा निस्तारण में अहम भूमिा निभा सकते है। उन्होंने कहा कि आम जनता तक जैविक व अजैविक कूड़े के पृथीकरण की जानकारी जनप्रतिनिधियों द्वारा अपने-अपने वार्डो व ग्राम सभाओं में दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि हमें ट्रेचिग ग्राउण्ड की जरूरत तब पड़ती है जब लोगों द्वारा कूड़े का पृथकीकरण नहीं किया जाता है।

जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारी नगरपालिका को निर्देश दिये कि जिन व्यवसायिक प्रतिष्ठानों द्वारा भारी मात्रा में कूड़ा पैदा किय जाता है उन्हें चिन्ह्ति किया जाय साथ ही यह भी देखा जाय कि उनके द्वारा कूड़े के निस्तारण किस तरह से किया जा रहा है। उन्होंने परियोजना निदेशक जिला पंचायत राज अधिकारी व अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को निर्देश दिये कि ग्रामसभा शैल का वेस्ट मैनेजमेंट प्लान बनाया जाय। इस कार्यशाला में उपस्थित सभासदों, ग्राम प्रधानों ने कूड़ा निस्तारण हेतु किये जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर अधिशासी अधिकारी नगरपालिका भरत त्रिपाठी ने पाॅवर पाइंट के माध्यम से कूड़ा निस्तारण व प्रतिबन्धित प्लास्टिक उत्पादों की जानकारी दी। इस कार्यशाला में जिला परियोजना अधिकारी सहित सभासद, ग्राम प्रधान व पर्यावरण पर्यवेक्षक उपस्थित थे। बता दें कि नगर पालिका द्वारा डोर टू डोर कूड़ा एकत्रित करने के लिए कूड़ा निस्तारण वाहन भी नगर क्षेत्र में संचालित किए हैं।

जिलाधिकारी वंदना ने बताया कि नगर क्षेत्र व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में कूड़ा निस्तारण व ठोस अवशिष्ट प्रबंधन को लेकर नगर पालिका परिषद द्वारा कार्यशाला आयोजित की गई। उन्होंने बताया कि कार्यशाला में डोर टू डोर कूड़ा निस्तारण को लेकर जन प्रतिनिधियों के साथ चर्चा की गई, किस तरह से अल्मोड़ा नगर व आसपास के क्षेत्रों में कूड़ा निस्तारण हो सके और जन प्रतिनिधि किस तरह से सहयोग पालिका को करेंगे इस पर भी चर्चा की गई।

नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश चंद्र जोशी ने बताया कि नगर क्षेत्र में कूड़ा निस्तारण की समस्या को देखते हुवे नगर पालिका सभासदों, ग्राम प्रधानों के साथ जिलाधिकारी के निर्देशानुसार कार्यशाला आयोजित की गई , कार्यशाला में उच्च न्यायालय के निर्देशों पर भी चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि कार्यशाला में हुई चर्चा के आधार पर सकारात्मक समाधान निकलेगा।

बाइट वंदना जिलाधिकारी अल्मोड़ा

बाइट प्रकाश चंद्र जोशी नगर पालिका अध्यक्ष

रिपोर्ट कंचना पांडेय अल्मोड़ा

Verified by MonsterInsights