सभी चोरों का सरनेम मोदी क्यों होता है…’ इस बयान से जुड़े मानहानि केस में राहुल गांधी को सूरत कोर्ट ने दो साल की सजा सुनाई

 

दी टॉप टेन न्यूज़ देहरादून

देहरादून-सभी चोरों का सरनेम मोदी क्यों होता है…’ इस बयान से जुड़े मानहानि केस में राहुल गांधी को सूरत कोर्ट ने गुरुवार को दोषी करार दिया। इस फैसले के 27 मिनट बाद कोर्ट ने उन्हें 2 साल की सजा और 15 हजार का जुर्माना भी लगाया। इसके कुछ देर बाद उसी कोर्ट ने उन्हें जमानत भी दे दी। साथ ही सजा को 30 दिन के लिए स्थगित कर दिया। सुनवाई के दौरान राहुल कोर्ट में मौजूद रहे।

राहुल ने कोर्ट में अपना पक्ष रखा। उनके वकील के मुताबिक, ‘राहुल ने कहा कि बयान देते वक्त मेरी मंशा गलत नहीं थी। मैंने तो भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई थी।’ उधर, कोर्ट के बाहर विधायक और याचिकाकर्ता पूर्णेश मोदी और उनके समर्थकों ने भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगाए।

वहीं सजा के बाद राहुल बोले- सत्य मेरा भगवान है।राहुल पर पिछले 4 साल से मानहानि का मामला चल रहा था। कोर्ट ने 17 मार्च को इस मामले में सभी दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रखा था।

राहुल IPC की धारा 500 में दोषी करार

राहुल को IPC की धारा 400 और 500 के तहत दोषी करार दिया गया है। इसमें 2 साल की सजा का प्रावधान है। राहुल के वकील ने कोर्ट से कहा- इस पूरी घटना में कोई घायल नहीं हुआ। इससे किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। इसलिए हम किसी प्रकार की दया की याचना नहीं करते हैं।

क्या राहुल गांधी की संसद सदस्यता जा सकती है

जुलाई 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अदालतों में 2 साल या उससे ज्यादा की सजा पाए जनप्रतिनिधियों (विधायकों-सांसदों) की सदस्यता रद्द कर दी जाएगी। इसी आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया था कि जो सांसद या विधायक सजा को ऊपरी अदालत में चैलेंज करेंगे, उन पर सदस्यता रद्द करने का आदेश लागू नहीं होगा।

राहुल गांधी को IPC की धारा 500 के तहत दोषी करार दिया गया है। उनके वकील ने कोर्ट में कहा- हम फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे। हायर कोर्ट में अपील करने के लिए राहुल गांधी के पास 30 दिन का वक्त है। रिप्रेजेंटेशन ऑफ द पीपल एक्ट 1951 के सेक्शन 8 (3) के मुताबिक 2 साल की सजा होने के बाद टेक्निकली राहुल गांधी की सदस्यता जा सकती है। बशर्ते ये सजा सुप्रीम कोर्ट से भी बरकरार रहे।

अदालत के फ़ैसले राहुल गांधी पूरी तरह से बेफिक्र नजर आए

खुद के खिलाफ सूरत के अदालत का फैसला आने के बावजूद राहुल गांधी गुरुवार को पूरी तरह से बेफिक्र नजर आए. और पार्टी नेताओं के साथ मीटिंग के बाद वहां के सासुमा नाम के रेस्टुरेंट में गुजराती थाली खाने पहुंचे। गुजरात के सूरत जिला अदालत ने गरुवार यानी 23 मार्च को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ फैसला सुनाया है. उन्हों दो साल की सजा भी अदालत ने मुकर्रर की है. अदालत के इस फैसले से उनकी सांसदी पर भी खतरा मंडरा गया है, लेकिन इन सबसे राहुल गांधी पूरी तरह से बेफिक्र नजर आ रहे हैं. ऐसा इसलिए कि अदालत का फैसला आने के बावजूद उनके चेहरे पर कोई शिकन नहीं है।

इसके उलट वह अदालत का आदेश आने के बाद सूरत में सर्किट हाउस पहुंचे. सर्किट हाउस में राहुल गांधी ने  कांग्रेस के नेता एवं अपने वकील के साथ मीटिंग की. मीटिंग समाप्त होने के बाद वह कांग्रेस के नेताओं के साथ सूरत में सासुमा नाम के रेस्टुरेंट में गुजराती थाली खाने पहुंचे हैं. बता दें कि राहुल गांधी आज ही 3 बजे की फ्लाइट में दिल्ली वापस लोट जाएंगे।

Verified by MonsterInsights