The Top Ten News
The Best News Portal of India

राज्य स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री ने ग्रीष्म कालीन राजधानी गैरसैंण पहुँच विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत करी,देखिए इस अवसर पर क्या बोलो राज्यान्दोलनकारी

 

दी टॉप टेन न्यूज़ देहरादून

भराड़ीसैंण- 22वें राज्य स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भराड़ीसैंण विधानसभा में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत की , इस अवसर पर उन्होंने राज्य आंदोलनकारी शहीदों को याद कर प्रदेश वासियों को राज्य स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी , उन्होंने कहा कि स्व अटल बिहारी बाजपेयी ने हमे यह राज्य दिया अब प्रधानमंत्री मोदी इसे संवारने के कार्य कर रहे है । इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के विकास के लिए कई घोषणाएं व करोड़ो रूपये की लागत से बनने वाली योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण भी किया। इस अवसर पर भराड़ीसैंण में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खण्डूड़ी व कर्णप्रयाग विधायक अनिल नौटियाल भी मौजूद रहे ।

उत्तराखंड राज्य स्थापना की 22वीं वर्षगांठ पूरे उत्तराखंड में धूमधाम से मनाया गया , उत्तराखंड की ग्रीष्कालीन राजधानी भराड़ीसैंण में आयोजित कार्यक्रमो में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शिकरत करते हुए राज्य आन्दोलनकारियो को नमन कर राज्यवासियों को राज्यस्थापना दिवस की बधाई दी , राज्य स्थापना दिवस पर भराड़ीसैंण में स्कूली बच्चो द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया , इस अवसर पर मुख्यमंत्री में कहा कि स्व0 अटल बिहारी बाजपेयी ने यह राज्य हमे दिया है और अब प्रधानमंत्री मोदी इसको संवारने के कार्य कर रहे है । जब राज्य स्थापना के 25 वर्ष में हम प्रवेश करेंगे तो तब हमारा राज्य देश के अग्रणी राज्यो में गिना जाएगा । 22वें राज्य स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य आंदोलनकारियों व चार पुलिस के जवानों को उत्कृष्ट कार्य करने पर सम्मानित किया । सीएम ने कर्णप्रयाग विधानसभा के विकास के लिए करोड़ों रुपये की लागत से बनने वाली योजनाओ का शिलान्यास व लोकार्पण भी किया । और कर्णप्रयाग विधानसभा के विकास के लिए घोषणाएं भी की।

इस दौरान वरिष्ठ उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी सुरेश कुमार बिष्ट ने कहा कि गैरसैंण को उत्तराखंड की ग्रीष्म कालीन राजधानी बने 2 साल से ज्यादा का वक्त बीत चुका है जहां सचिव स्तर के अधिकारी को बैठना चाहिए था, लेकिन सरकार अब तक गैरसैण में एक स्थाई एसडीएम और तहसीलदार की नियुक्ति नही कर पाई है।

वही वरिष्ठ राज्य आंदोलनकारी जानकी रावत ने कहा कि इसलिए अलग राज्य मांगा गया था कि पहाड़ों का विकास होगा, रोजगार के साधन विकसित होंगे लेकिन अब तक उत्तराखंड राज्य बनने का उद्देश्य पूर्ण नही हो पाया है।

पुष्कर सिंह धामी (मुख्यमंत्री उत्तराखंड)

सुरेश कुमार बिष्ट (वरिष्ठ राज्य आंदोलनकारी)

 

जानकी रावत (वरिष्ठ राज्य आंदोलनकारी)

Comments are closed.