The Top Ten News
The Best News Portal of India

उत्तराखंड के लाल कैलाश चंद शर्मा को राष्ट्रपति पदक

दिल्ली  मे आर्थिक अपराध शाखा में  एसीपी पद पर कार्यरत

दी टॉप टेन न्यूज़ दिल्ली उत्तराखंड वासियों के लिए एक बार फिर गर्व की बात है कि यहां के एक लाल को दिल्ली पुलिस में उत्कृष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया है इस खबर से उनके पैतृक गांव से लेकर उत्तराखंड वासियों में खुशी की लहर है।

परंपरा के अनुसार 15 अगस्त के मौके पर विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वालों को राष्ट्रपति के द्वारा सम्मानित करने के लिए चुना जाता है इस बार उत्तराखंड के निवासी एसीपी कैलाश चंद शर्मा को यह अवसर मिला है।कैलाश चंद्र शर्मा दिल्ली पुलिस में एस आई के पद पर 1983 में नियुक्त हुए थे मूल रूप से वह ग्राम कमडई ब्लॉक बीरोंखाल पौड़ी गढ़वाल ज़िले के निवासी है। उनके तेजतर्रार व्यक्तित्व और विशिष्ट कार्यों के लिए इस बार राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया है।

अपने जीवन में बेहद संघर्षशील कैलाश चन्द्र शर्मा के पिताजी पौड़ी गढ़वाल में पोस्टमैन पद पर कार्यरत थे लेकिन बचपन में ही इनके सिर से पिता का साया उठ गया था। अपने अथक प्रयास से इन्होंने गांव के विद्यालय से हाई स्कूल की परीक्षा पास कर उच्च शिक्षा के लिए देहरादून का रुख किया और डीएवी कॉलेज से स्नातक के पश्चात बी. एड. की डिग्री प्राप्त करी और सन 1983 में दिल्ली पुलिस में एसआई के पद पर भर्ती हुए अपनी  विशिष्ट कार्यशैली और कर्तव्यनिष्ठा के चलते जामा मस्जिद में लगी ड्यूटी के दौरान कानून व्यवस्थाओं का बखूबी पालन किया और अपने दायित्वों को निर्वाहन किया वही बहुत सारी हत्याओं के मामले भी सुलझाएं हैं चाहे वो बांग्लादेशी पर्यटक का मामला हो या फिर मद्रास के छात्र का इन्होंने दो बड़े लुटेरे डकैतों के गिरोह को भी गिरफ्तार किया और डकैती की घटनाओं को भी सुलझाया है। इन्होंने अपनी सेवाएं दिल्ली के नजफगढ़, पालम, आरके पुरम, और इंद्रपुरी के थानों में भी दी है।एसीपी कैलाश चंद शर्मा ने पुलिस विभाग की विभिन्न इकाइयों में अपनी सेवाएं प्रदान की है जहां उन्होंने क्राइम ब्रांच में कार्य करते हुए बहुत सारे अपराधों से पर्दा उठाकर अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया वही भ्रष्टाचार निरोधक इकाई में भी अपनी सेवाएं प्रदान की है वर्तमान में कैलाश चंद शर्मा आर्थिक अपराध शाखा दिल्ली में एसीपी के पद पर कार्यरत हैं आज उन्हें राष्ट्रपति पदक से सम्मानित करने पर उत्तराखंड वासियों के लिए यह गर्व और खुशी का पल है तो वही उन्हें लगातार शुभकामना संदेश प्राप्त हो रहे हैं।

Comments are closed.