The Top Ten News
The Best News Portal of India

17 मई तक एक लाख से ज्यादा प्रवासी आ चुके हैं उत्तराखंड राज्य में

राज्य में वापस आने के लिए पंजीकृत प्रवासी 2,25,695

दी टॉप टेन न्यूज़ देहरादून

उत्तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने अब तक राज्य में वापस आए प्रवासियों की जानकारी देते हुए बताया कि अब तक राज्य में 104461 प्रवासी वापस लौट चुके हैं और राज्य में आने के लिए  2,25695 प्रवासियों ने पंजीकरण कराया है।
विभिन्न राज्यों से आने वाले लोगों की संख्या की जानकारी देते हुए मुख्य सचिव ने बताया कि अब तक दिल्ली से 34621 हरियाणा से 18218 उत्तर प्रदेश से 16928 महाराष्ट्र से 4127 चंडीगढ़ से 8479 गुजरात से 6001 कर्नाटक से 2486 पंजाब से 5947 राजस्थान से 6118 और अन्य राज्यों से 1526 लोगों को राज्य में वापस लाया गया है।
उत्तराखंड राज्य में भी अन्य राज्यों के प्रवासी फस गए थे जिन्होंने अपने राज्य में लौटने के लिए आवेदन किया था इन प्रवासियों की संख्या 38176 है जिनमें से 22526 लोगों को उत्तराखंड के बाहर उनके राज्य को भेज दिया गया है ।

उत्तराखंड राज्य के भीतर भी एक जिले से दूसरे जिले के लिए 82513 लोगों को उनके घरों तक पहुंचा दिया गया है मुख्य सचिव ने बताया कि इसी तरह आगे भी प्रवासियों को राज्य में वापस लाने और उनके राज्य में भेजने की प्रक्रिया जारी रहेगी और आगामी 3 दिनों की कार्य योजना को भी मुख्य सचिव द्वारा मीडिया के सामने प्रस्तुत किया गया।

19 मई से 20 मई तक उत्तर प्रदेश से 4100 व्यक्तियों को आने के लिए पास निर्गत किए गए हैं।

गुजरात तेलंगाना पुणे सूरत दिल्ली गोवा त्रिवेंद्रम चेन्नई आदि राज्यों में फंसे हुए व्यक्तियों को प्रेम से लाने के लिए प्रक्रिया जारी है।

उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड 56258 व्यक्तियों को लाने और राज्य से उत्तर प्रदेश 13684 व्यक्तियों को रेल के माध्यम से भेजने के लिए प्रक्रिया जारी है।

कारगिल से 43 लोग बस के माध्यम से आज उत्तराखंड में आएंगे।

बेंगलुरु से लाल कुआं स्पेशल ट्रेन 19 मई को प्रस्थान करेगी और देहरादून से उत्तर पूर्वी राज्यों के लिए रेल प्रस्तावित है। पुणे से लाल कुआं स्पेशल ट्रेन आगामी दो-तीन दिनों के भीतर प्रस्तावित है

छत्तीसगढ़ से उत्तराखंड और उत्तराखंड से छत्तीसगढ़ यात्रियों को रेल से भेजने और लाने के लिए कार्रवाई जारी है।

उत्तराखंड आने वाले सभी प्रवासी व्यक्तियों को जो अपने खुद के वहां से उत्तराखंड आना चाहते हैं उनको तेजी से ई पास जारी किए जा रहे हैं। यह तमाम आंकड़े राज्य सरकार द्वारा पंजीकृत लोगों के हैं राज्य में अन्य राज्यों से भी प्रवासी अपने संसाधनों से  वापस लौट रहे हैं जिनको उचित जांच करके क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है।

Comments are closed.