The Top Ten News
The Best News Portal of India

लॉक डॉउन में उदयपुर राजस्थान में फंसे ईस्था इंस्टिट्यूट के 25 बच्चे सकुशल पहुँचे खटीमा

ईस्था संस्थान के प्रबंध निदेशक नवीन चौहान के मैराथन प्रयासों से हुई बच्चो की वापसी

दीपक फुलेरा-

दी टॉप टैन न्यूज़(खटीमा)- वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से देश भर में चल रहे लॉक डॉउन की वजह से जंहा उत्तराखण्ड के हजारों लोग देश के विभिन्न राज्यो में फंसे हुए है।वही उधम सिंह नगर जिले के खटीमा स्थित ईस्था इंस्टिट्यूट ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड क्लनरी आर्ट में अध्ययनरत 25 बच्चे जो कि लॉक डॉउन से पहले संस्थान से औधोगिक प्रशिक्षण हेतु उदयपुर राजस्थान गये हुए थे। लॉक डॉउन की वजह से सभी बच्चे वहाँ पर फंस गए थे।जिन्हें लंबे प्रयासों के बाद आखिरकार  ईस्था इंस्टिट्यूट खटीमा के मैनेजिंग डायरेक्टर नवीन चौहान सकुशल खटीमा लाने में सफल रहे है।

ईस्था इंस्टिट्यूट के सभी 25 बच्चे जंहा यूपी व उत्तराखण्ड के थे। जिनको संस्थान के प्रबंधक नवीन चौहान ने उत्तराखण्ड व राजस्थान सरकार से कई बार सम्पर्क कर आखिरकार अपने खर्चे से बस राजस्थान भेज कर खटीमा सकुशल बुला लिया।तीन मार्च की रात खटीमा पहुँचे ईस्था इंस्टिट्यूट के सभी बच्चो का जंहा सरकारी अस्पताल खटीमा में मेडिकल स्क्रीनिग कराई गई। वही लॉक डॉउन की सभी औपचारिकताओं को पूर्ण कर  कुछ बच्चो को होम क्वारनटाइन को भेज दिया गया है। साथ ही अन्य बच्चो को खटीमा में प्रशासन द्वारा बनाये गए क्वारनटाइन सेंटरो में भेज दिया गया है।

लंबे समय से लॉक डॉउन की वजह से उदयपुर राजस्थान में फंसे व तमाम परेशानी झेल रहे ईस्था इंस्टिट्यूट के बच्चो ने अपने संस्थान के मैनेजिंग डायरेक्टर नवीन चौहान के प्रयासों से खटीमा पहुँचने पर संस्थान का आभार जताया। साथ ही अपने लंबे समय बाद आखिरकार अपने घर पहुँचने पर संस्थान के बच्चो के चेहरे में खुसी देखने को मिली।

वही खटीमा के ईस्था इंस्टिट्यूट ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड क्लनरी आर्ट संस्थान के बच्चो के लंबे प्रयासों बाद खटीमा पहुँचने पर संस्थान के डायरेक्टर नवीन चौहान,हेम चन्द्र जोशी, देव बहादुर चंद,प्रभाकर ततरारी,दिगम्बर चौहान सहित संस्थान के अन्य सभी कर्मियों ने खुसी जताई है। वही हम आपको बता दे कि खटीमा में विगत कई वर्षों से संचालित ईस्था इंस्टिट्यूट ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड क्लनरी आर्ट संस्थान जंहा खटीमा क्षेत्र के सेकड़ो बच्चो को विदेशों में बेहतर रोजगार दिला चुका है। वही एक बार फिर मुसीबत में फंसे अपने संस्थान के बच्चो की मदद को आगे आ संस्थान ने अपने फर्ज को बखूबी निभाया है।

Comments are closed.